Blog

Laghu v Griha Udyog (Swarozgar Pariyojanayen) Kutir Udyog, Small Scale Industries (SSI)

Friday, February 24, 2017

facebook twitter Bookmark and Share

लघु उद्योग का भारतीय अर्थव्यवस्था में अत्यंत महत्त्वपूर्ण स्थान रहा है। प्राचीन काल से ही भारत के लघु व गृह  उद्योगों में उत्तम गुणवत्ता वाली वस्तुओं का उत्पादन होता रहा है। उद्यमी बनना या उद्यम स्थापित करना आज काफी आसान हो गया है । क्योंकि हमारी सरकार  उद्यम स्थापित के लिए उद्यमियों को कई तरह से प्रोत्साहित करती   है ।  इसके लिए सरकार विभिन्न प्रकार  के प्रशिक्षणों का आयोजन करती   है  जिससे उद्यमियों को उद्योग स्थापना का ज्ञान दिया जा सके । यदि उन्हें उद्यम स्थापित करने के लिए वित्तीय सहायता की आवयश्कता है तो उन्हें विभिन्न ऋण योजनाओं के माध्यम से ऋण उपलब्ध करवाया जाता है । साथ ही उद्योग स्थापित करने में यदि उन्हें कोई परेशानी आ रही है तो उन्हें उद्योग चलाने हेतु सहायता प्रदान करवाई जाती है ।

सरकार इस बात के लिए खास तौर पर प्रयत्नशील हैं  कि देश भर में उद्यमिता पले व बढे तथा एक ऐसी संस्कृति पल्लवित हो जिसमे स्वरोज़गार, लघु उद्योगों का उत्पादन एवं छोटे उद्यमों की लाभप्रदता बढे । साथ ही जो संभावी अथवा नव उद्यमी हैं  उनके कौशल को निखारा जाये । इसके लिए लघु उद्यम विकास संस्थान विभिन्न प्रकार के लाभदायक प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करते हैं ।

लघु उद्योगों  ने बीते 50  साल में प्रगति के अनेक सोपान तय किये हैं । हमारे देश के सामाजिक एवं आर्थिक  विकास में इन उद्योगों  का योगदान अहम साबित हुआ है । इन्होने कम पूँजी से रोज़गार उपलब्ध कराये हैं । ग्रामीण इलाको में औद्योगीकरण का प्रकाश फैलाया है तथा क्षेत्रीय असंतुलन में कमी को दूर करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है । लघु उद्योग में हुए विकास ने आधुनिक तकनीक अपनाने तथा लाभकारी रोजगार में श्रम शक्ति का अवशोषण करने के लिए उद्यमशीलता की प्रतिभा का उपयोग करने को प्राथमिकता प्रदान की है जिससे उत्पादकता और आय के स्तर को बढ़ाया जा सके। लघु उद्योग उद्योगो के प्रसार तथा स्थानीय संसाधनों के उपयोग में सुविधा प्रदान करते हैं।

माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी मुद्रा नामक योजना के अन्तर्गत बेहद छोटे उद्यमियों को 50,000 रूपए  से लेकर 10 लाख रूपए तक के कर्ज़ उपलब्ध कराये जाते हैं । इस योजना से लघु उद्योगों के लिए प्रगति का एक नया मार्ग प्रशस्त हुआ है ।

लघु उद्योग (Small Scale Industry), स्वरोजगार (Self Employment) व प्रबन्ध क्षेत्रों में मार्गदर्शक के रूप में कार्य करते हैं। लघु, कुटीर व घरेलू उद्योग परियोजनाएं नए उद्यमी व संभावित उद्यमियों को उद्योग - व्यवसाय की स्थापना व संवर्द्धन की दिशा में प्रेरित करती हैं जिससे वे देश के आर्थिक विकास में अपना योगदान बढ़ा सकें।

"कार्य परिश्रम से सिद्ध होते हैं, मनोरथ से नहीं । क्योंकि सोये हुए जंगल के राजा शेर के मुख्य में भी हिरण स्वयं आकर प्रविष्ट नहीं होते हैं ।"

शासन की योजनाएं तो अपनी जगह कायम हैं, इसका लाभ उठाने  के लिए उद्यमियों को ही आगे आना होगा । आज जो भी उद्यमी सफलता के शिखर पर खड़े है उन सभी ने इन योजनाओं का लाभ उठाया और अपने परिश्रम के बल पर अपनी इकाइयों की सफलता सुनिश्चित की ।

पैसा जीवन के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज है । हर व्यक्ति अपने जीवन में पैसा कमाना चाहता  है । 

अगर कोई व्यक्ति अपना खुद का उद्योग स्थापित  करना चाहता है तो उसके पास  अच्छी प्लानिंग और बिज़नस शुरू करने के लिए पर्याप्त राशि होनी चाहिए । इसका मतलब यह बिलकुल भी नहीं है कि कोई कम पैसे मे अपना स्वयं का उद्योग शुरू नहीं कर सकता ।  लघु उद्योग में हुए विकास ने आधुनिक तकनीक अपनाने तथा लाभकारी रोजगार में श्रम शक्ति का अवशोषण करने के लिए उद्यमशीलता की प्रतिभा का उपयोग करने को प्राथमिकता प्रदान की है जिससे उत्पादकता और आय के स्तर को बढ़ाया जा सके। लघु उद्योग उद्योगो के प्रसार तथा स्थानीय संसाधनों के उपयोग में सुविधा प्रदान करते हैं। 

 

इस पुस्तक में वित्तीय परियोजना का विवरण दिया गया है और इन वित्तीय परियोजना के माध्यम से विभिन्न उद्योगो की उत्पादन क्षमता (Production Capacity), भूमि एवं भवन (Land & Building), मशीन एवं उपकरण (Machinery & Equipment) तथा कुल अनुमानित लागत (Estimated Capital Investment) आदि की जानकारी दी गयी है। साथ ही कच्चे माल के आपूर्तिकर्ताओं (Raw Material Suppliers), संयंत्र और मशीनरी के आपूर्तिकर्ताओं (Plant & Machinery Suppliers) के पते दिए गए है जिससे उद्यमी ज्यादातार लाभ उठा सकें। 

 

नये उद्यमियों, व्यवसायिओं, तकनीकी परामर्शदाताओं आदि के लिए यह पुस्तक अमूल्य मार्गदर्शक सिद्ध होगी।

See more: http://goo.gl/gUfXbM

 

Contact us:

Niir Project Consultancy Services

106-E, Kamla Nagar, Near Spark Mall,

New Delhi-110007, India.

Email: [email protected][email protected]

Tel: +91-11-23843955, 23845654, 23845886, 8800733955

Mobile: +91-9811043595

Fax: +91-11-23845886

Website :

http://www.niir.org

http://www.entrepreneurindia.co

Tags: अमीर बनने के तरीके, अवसर को तलाशें, आखिर गृह और कुटीर उद्योग कैसे विकसित हो, आधुनिक कुटीर एवं गृह उद्योग, आप नया करोबार आरंभ करने पर विचार कर रहे हैं, उद्योग से सम्बंधित जरुरी जानकारी, औद्योगिक नीति, कम पूंजी के व्यापार, कम पैसे के शुरू करें नए जमाने के ये हिट कारोबार, कम लागत के उद्योग, कम लागत वाले व्यवसाय व्यापार, कम लागत वाले व्यवसाय, कारोबार बढाने के उपाय, कारोबार योजना चुनें, किस वस्तु का व्यापार करें किससे होगा लाभ, कुटीर उद्योग, कुटीर और लघु उद्यमों योजनाएं, कैसे उदयोग लगाये जाये, कौन सा व्यापार करे, कौन सा व्यापार रहेगा आपके लिए फायदेमंद, क्या आप अपना कोई नया व्यवसाय, क्या आपको आर्थिक स्वतंत्रता चाहिए, क्या व्यापार करे, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग, खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों हेतु स्थापना, छोटा कारोबार शुरु करें, छोटा बिजनेस, उद्योग, छोटे पैमाने की औद्योगिक इकाइयाँ, छोटे मगर बड़ी संभावना वाले नए कारोबार, छोटे व्यापार, नया कारोबार, नया बिजनेस आइडिया, नया व्यवसाय शुरू करें और रोजगार पायें, नया व्यापार, परियोजना प्रोफाइल, भारत के लघु उद्योग, भारत में नया कारोबार शुरू करना, रोजगार के अवसर, लघु उद्योग की जानकारी, लघु उद्योग के नाम, लघु उद्योग के बारे, लघु उद्योग माहिती व मार्गदर्शन, लघु उद्योग यादी, लघु उद्योग शुरू करने सम्बन्धी उपयोगी, लघु उद्योग सूची, लघु उद्योग, लघु उद्योगों का वर्गीकरण, लघु उद्योगों की आवश्यकता, लघु उद्योगों के उद्देश्य, लघु उद्योगों के प्रकार, लघु उधोग की जानकारी, लघु एवं कुटीर उद्योग, लघु एवं मध्यम उद्यमों, लघु कुटीर व घरेलू उद्योग परियोजनाएं, व्यवसाय लिस्ट, व्यापार करने संबंधी, व्यापार के प्रकार, सुक्ष्म, व्यापारकारोबार, स्वरोजगार, स्टार्ट अप इंडिया स्टैंड अप इंडिया, स्टार्ट अप इंडिया, स्टार्टअप क्या है, स्टार्टअप योजना, स्वरोजगार बेहतर भविष्य का नया विकल्प, स्वरोजगार,

blog comments powered by Disqus



About NIIR

Hide ^

NIIR PROJECT CONSULTANCY SERVICES (NPCS) is a reliable name in the industrial world for offering integrated technical consultancy services. NPCS is manned by engineers, planners, specialists, financial experts, economic analysts and design specialists with extensive experience in the related industries.

Our various services are: Detailed Project Report, Business Plan for Manufacturing Plant, Start-up Ideas, Business Ideas for Entrepreneurs, Start up Business Opportunities, entrepreneurship projects, Successful Business Plan, Industry Trends, Market Research, Manufacturing Process, Machinery, Raw Materials, project report, Cost and Revenue, Pre-feasibility study for Profitable Manufacturing Business, Project Identification, Project Feasibility and Market Study, Identification of Profitable Industrial Project Opportunities, Business Opportunities, Investment Opportunities for Most Profitable Business in India, Manufacturing Business Ideas, Preparation of Project Profile, Pre-Investment and Pre-Feasibility Study, Market Research Study, Preparation of Techno-Economic Feasibility Report, Identification and Section of Plant, Process, Equipment, General Guidance, Startup Help, Technical and Commercial Counseling for setting up new industrial project and Most Profitable Small Scale Business.

NPCS also publishes varies process technology, technical, reference, self employment and startup books, directory, business and industry database, bankable detailed project report, market research report on various industries, small scale industry and profit making business. Besides being used by manufacturers, industrialists and entrepreneurs, our publications are also used by professionals including project engineers, information services bureau, consultants and project consultancy firms as one of the input in their research.

^ Top

Products & Services

Others

Contact Us

My Account

Help

Payment Options

  • Credit Cards
  • Debit Cards
  • PayPal
  • Net Banking - (All Major Indian Banks)

We Process

  • Cards

Google Search


Search Blog